मार्गों पर अतिक्रमण करने वाले धार्मिक स्थलों का आपसी समन्वय बनाकर ध्वस्तीकरण किया जाय

जनपद के ऐसे धार्मिक स्थल जो जनपद में बने विभिन्न
मार्गों पर अतिक्रमण किये हुए है तथा जिनसे यातायात व्यवस्था प्रभावित हो
रही है अथवा भविश्य में यातायात व्यवस्था प्रभावित होने की सम्भावना है को
ध्वस्त किया जाना है। इसी क्रम में जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल ने
कलक्ट्रेट सभागार में राजस्व, लोनिवि, पुलिस एवं निकायों के अधिकारियों के
साथ बैठक कर अधिकारियों को आवष्यक दिषा निर्देष दिये। जिलाधिकारी ने
राजस्व, लोनिवि, पुलिस एवं निकायों के अधिकारियों को निर्देष दिये कि वे
आपसी समन्वय बनाते हुए जनपद का सर्वें कर ऐसे धार्मिक स्थलों का चिह्नीकरण
करे जो जनपद में सरकारी भूमि पर काबिज होने के साथ ही यातायात व्यवस्था को
प्रभावित कर रहे हैं। उन्होंने निर्देष दिये कि ऐसे धार्मिक स्थल जो पूरी
तरह से सरकारी भूमि पर काबिज है तथा ऐसे धार्मिक स्थल जिनका कुछ हिस्सा ही
सरकारी भूमि पर स्थापित है की अलग-अलग सूची बनायी जाय। साथ ही रिपोर्ट में
यह भी बताया जाय कि कौन सा धार्मिक स्थल किस विभाग की भूमि पर काबिज है और
उस धार्मिक स्थल का कितना हिस्सा सम्बन्धित विभाग की भूमि पर स्थापित है।
उन्होंने निर्देष दिये कि इन धार्मिक स्थलों की सूची फोटोग्राफ व
वाडियोग्राफ सहित उपलब्ध करायी जाय। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देष
दिये कि सम्बन्धित अधिकारी विभिन्न मार्गाें पर बने धार्मिक स्थलों के
ध्वस्तीकरण कार्य सहित धार्मिक स्थलों व मूर्तियों के अन्य स्थानांे पर
स्थापन्न की योजना भी बनाकर प्रस्तुत करें ताकि ध्वस्तीकरण कार्य
सुव्यवस्थित तरीके से सम्पन्न किया जा सके। 
    बैठक में मुख्य
विकास अधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय, एडीएम प्रताप सिंह षाह व जगदीष चन्द्र
काण्डपाल, मुख्य नगर अधिकारी दीप्ति वैष्य, एएमए जिला पंचायत तेज सिंह, ईई
लोनिवि केसी पंत, एसपी टीडी वैला, तहसीलदार अमृता षर्मा आदि उपस्थित थे।
www.kashipurcity.com : News, Career, Technology. #adigitalpaper, Digital Khabar, Baal Ki Khaal, BKK News, Net Guru Online- NGO, UK News Live, Ye Bhi Sikhte hain,
शेयर करें

Leave a Reply