अमरनाथ यात्रा के लिए आवश्यक जानकारी

Amarnath yatra map, Amarnath yatra 2014
  1. श्री अमरनाथ यात्रा के लिए जाने से पहले रजिस्ट्रेशन करवाना होता है।
    2014 में यस बैंक में रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरे गए थे। रजिस्ट्रेशन के दौरान
    ही मेडिकल चेकअप करवाना होता है, उसके बाद ही बैंक आपको पूरा रजिस्ट्रेशन
    कार्ड देता है। इस कार्ड को आपको पूरी यात्रा  में चेकिंग के लिए साथ रखना
    होता है।
  2. अमरनाथ यात्रा के लिए यात्रियों को शारीरिक रूप से स्वस्थ होना बहुत
    आवश्यक है , क्योंकि श्री अमरनाथ यात्रा के दौरान लगभग 14 ,800 फिट की
    उँचाई तक जाना और आना पड़ता है। 
  3. श्री अमरनाथ यात्रा के समय जरुरी और आवश्यक दर्द निवारक दवाइयों को साथ
    ले जाना बहुत जरुरी है। जैसे मरहम, गलूकोज़ , पेन किलर, विक्स, मूव, वेसलीन
    , बोरो प्लस आदि. 
  4. श्री अमरनाथ यात्रा जाते  समय गरम कपड़ो को भी ले जाना बहुत जरुरी है। 
    अपने साथ ऊनी कपडे, रेन कोट, फुल गर्म इनर, मफरल, मंकी कैप, अच्छे
    क्वालिटी  के स्पोर्ट्स शूज़ आदि , धुप से बचने के लिए एक हेट भी रख सकते
    है। साथ में एक लाठी जिसके नीचे लोहे की नोक लगी हो पहाड़ों और बर्फ में
    चलने में सहायक होती है। 
अमरनाथ यात्रा का विवरण :
श्री अमरनाथ जी यात्रा का मुख्य रास्ता जम्मूतवी से शुरू होता है, यहाँ से
आप सड़क या वायुयान   से जम्मू  जम्मू उधमपुर, कूद, पत्नी टॉप, बटोट, रामवन,
बनिहाल, जवाहर टर्नल, खानेबल और अनंतनाग होते हुए पहलगांव पहुंचा जा सकता
है,
 यात्रा के विभिन्न चरण :
  1. प्रथम चरण -पहलगांव
    से चंदनवाड़ी 16 किमी की यात्रा पैदल या छोटी कार, बस आदि से पूरी की जा
    सकती है। चंदनवाड़ी लगभग 6500 फ़ीट की उचाई पर स्थित है, पैदल 5 या 6 घंटे
    में पूरी की जा सकती है और कार आदि से 1  घंटे में पहुंचा जा सकता है। 
  2.  दूसरा चरण –
    चंदनवाड़ी से पिस्सूटॉप की दूरी 3 किमी है, जो की 10600 फ़ीट की उचाई पर है,
    यहाँ की यात्रा 2 से 3 घंटे में पूरी की जा सकती है। यात्रा में मुख्य
    आकर्षण पिस्सूटॉप घाटी है, जो सर्पाकार है और बर्फ से ढकी है। 
  3. तीसरा चरण पिस्सूटॉप से शेषनाग की यात्रा 8 किमी की है, जिसकी उचाई 11630 फ़ीट है, इस यात्रा को ४ से 5 घंटे में पूरा किया जा सकता है . 
  4. चतुर्थ चरण – शेषनाग
    से महागुनस की दूरी लगभग 6 किमी है,  महागुनस पर्वत की चढ़ाई 3 से 4 घंटे
    में पूरी की जा सकती है.   जिसकी उचाई 14800 फ़ीट है .
  5. पांचवा चरण – महागुनस से पोषपत्री की दूरी 1 किमी है, जो आधे घंटे में पूरी की जा सकती है .
  6. छटा चरण -पोषपत्री से पंचतरणी की दूरी लगभग 6 किमी है, इसकी यात्रा 3
    से 3 घंटे में पूरी की जा सकती है, इसकी उचाई 12500 फ़ीट की है , पांच तरणि
    में पांच प्रकार की नदियों का संगम है .
  7. सातवां चरण – पंचतरणी से पवित्र
    गुफा की यात्रा 6 किमी है, और उचाई 13500 फ़ीट के आस -पास है, इसमें 3 किमी
    का रास्ता बर्फ से ढका  हुआ है, रस्ते में एक हिम नदी आती है जिसे पार
    करके पवित्र अमरनाथ गुफा के दर्शन होते है, 
श्री अमरनाथ गुफा 100 फ़ीट लम्बी और150 फ़ीट चौड़ी है,जिसमे अपने आप
प्राकर्तिक रूप से निर्मित बर्फ से बना लगभग 10 फ़ीट ऊँचा शिवलिंग प्रकट
होता है। बाई और माँ पार्वती और श्री गणेश जी का हिम निर्मित स्थान है। 
एक प्राचीन कथा के मुताबिक भगवान शंकर ने माँ पार्वती को अमर गुफा में
संसार की रचना के गुड़ रहस्य की कथा सुनाई थी। उसी समय कबूतर का एक जोड़ा कथा
को सुन रहा था और सुनकर अमर हो गया , आज भी कबूतर अमरनाथ दर्शनार्थियों को
गुफा में दर्शन देते है। 
 
By Jitendra Arora  (Sub Editor : Inside Coverage)
शेयर करें

Leave a Reply